EMAIL

Call Now

0522-4957800

ब्लॉग

अमृता कौर 16 वर्षों तक रही महात्मा गांधी की सचिव
02-Feb-2019    |    Views : 000219

LUCKNOW. राजकुमारी अमृत कौर, स्वतंत्र भारत की दस वर्षों तक स्वास्थ्य मंत्री थीं। वे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी तथा सामाजिक कार्यकर्ता थीं। वे महात्मा गांधी की अनुयायी तथा 16 वर्ष तक उनकी सचिव रहीं।

अमृता कौर 16 वर्षों तक रही महात्मा गांधी की सचिव

LUCKNOW. राजकुमारी अमृत कौर, स्वतंत्र भारत की दस वर्षों तक स्वास्थ्य मंत्री थीं। वे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी तथा सामाजिक कार्यकर्ता थीं। वे महात्मा गांधी की अनुयायी तथा 16 वर्ष तक उनकी सचिव रहीं।

राजकुमारी अमृत कौर का जन्म 2 फ़रवरी 1889 को उत्तर प्रदेश राज्य के लखनऊ नगर में हुआ था। इनकी उच्च शिक्षा इंग्लैंड में हुई। ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से एम. ए. पास करने के उपरांत वह भारत वापस लौटीं।

1945 में यूनेस्को की बैठकों में सम्मिलित होने के लिए जो भारतीय प्रतिनिधि दल लंदन गया था, राजकुमारी अमृत कौर उसकी उपनेत्री थी। 1946 में जब यह प्रतिनिधिमंडल यूनेस्को की सभाओं में भाग लेने के लिए पेरिस गया, तब भी वे इसकी उपनेत्री (डिप्टी लीडर) थीं। 1948 और 1949 में वह 'आल इंडिया कॉन्फ्रेंस ऑफ सोशल वर्क' की अध्यक्षता रहीं। 1950 ई. में वह वर्ल्ड हेल्थ असेंबली की अध्यक्षा निर्वाचित हुई।

1947 से 1957 ई. तक वह भारत सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रहीं। 1957 ई. में नई दिल्ली में उन्नीसवीं इंटरनेशनल रेडक्रास कॉन्फ्रेंस राजकुमारी अमृत कौर की अध्यक्षता में हुई। 1950 ई. से 1964 ई. तक वह लीग ऑफ रेडक्रास सोसाइटीज की सहायक अध्यक्ष रहीं। वह 1948 ई. से 1964 तक सेंट जॉन एमबुलेंस ब्रिगेड की चीफ कमिशनर तथा इंडियन कौंसिल ऑफ चाइल्ड वेलफेयर की मुख्य अधिकारिणी रहीं। साथ ही वह आल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑव मेडिकल साइंस की अध्यक्षा भी रहीं।

राजकुमारी को खेलों से बड़ा प्रेम था। नेशनल स्पोर्ट्स क्लब ऑव इंडिया की स्थापना इन्होंने की थी और इस क्लब की वह अध्यक्षा शुरु से रहीं। उनको टेनिस खेलने का बड़ा शौक था। कई बार टेनिस चैंपियनशिप उनको मिली।

वे ट्यूबरक्यूलोसिस एसोसियेशन ऑव इंडिया तथा हिंद कुष्ट निवारण संघ की आरंभ से अध्यक्षता रही थीं। वे गांधी स्मारक निधि और जलियानवाला बाग नेशनल मेमोरियल ट्रस्ट की ट्रस्टी, कौंसिल ऑव साइंटिफिक तथा इंडस्ट्रियल रिसर्च की गवनिंग बाडी की सदस्या, तथा दिल्ली म्यूजिक सोसाइटी की अध्यक्षा थीं।

राजकुमारी एक प्रसिद्ध विदुषी महिला थीं। उन्हें दिल्ली विश्वविद्यालय, स्मिथ कालेज, वेस्टर्न कालेज, मेकमरे कालेज आदि से डाक्ट्रेट मिली थी। उन्हें फूलों से तथा बच्चों से बड़ा प्रेम था। वे बिल्कुल शाकाहारी थीं और सादगी से जीवन व्यतीत करती थीं। बाइबिल के अतिरिक्त वे रामायण और गीता को भी प्रतिदिन पढ़ने से उन्हें शांति मिलती थी।

उनकी मृत्यु 2 अक्टूबर 1964 को दिल्ली में हुई। उनकी इच्छा के अनुसार उनको दफनाया नहीं गया, बल्कि जलाया गया।

2 फरवरी का दिन भी भारतीय इतिहास में काफी महत्वपूर्ण दिनों में से एक है। इसी दिन साल 1949 में भारतीय न्यूज एजेंसी प्रेस ट्र्स्ट ऑफ इंडिया की स्थापना की गई। इसके अलावा 2 फरवरी के दिन देश में प्रशासनिक सुधारों के लिए साल 1844 में पिट्स नियामक अधिनियम को लागू किया गया। इसके अलावा जो कुछ भी देश विदेश में हुआ उसको जानकर अपने सामान्य ज्ञान को बढ़ा सकते है।

2 फ़रवरी की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

भारत में दीव (गोआ, दमन और दीव) के पास पुर्तग़ाल व तुर्की के बीच 1509 में युद्ध हुआ।

चीन के शैन्सी प्रांत में 1556 में आये जबरदस्त भूकंप में करीब लाखों लोगों की मौत हुई।

चार्ल्स प्रथम 1626 में इंग्लैंड के सम्राट बने।

देश में प्रशासनिक सुधारों के लिए 2 फरवरी, साल 1844 में पिट्स नियामक अधिनियम को लागू किया गया।

शंभूनाथ पंडित 1862 में कलकत्ता उच्च न्यायालय के पहले भारतीय न्यायाधीश बने।

यूनान ने 1878 में तुर्की के खिलाफ युद्ध की घोषणा की।

रशिया ने 1892 में कैलिफ़ोर्निया में ‘फ़र ट्रेडिंग कॉलोनी’ की स्थापना की।

1901 में क्वीन विक्टोरिया का अंतिम संस्कार हुआ।

न्यूयार्क में 1913 में ‘ग्रैंड सेंट्रल टर्मिनल’ की ओपनिंग हुई।

फ़्रांस ने 1920 में मैमेल पर कब्ज़ा किया।

जेम्स जॉयस का लिखा उपन्यास ‘यूलिसिस’ 1922 में पहली बार प्रकाशित किया गया।

हंगरी ने 1939 में सोवियत संघ के साथ संबंध समाप्त किये।

प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया की स्थापना 2 फरवरी साल 1949 को की गई।

भारत ने 1952 में मद्रास में पहला टेस्ट क्रिकेट जीता।

अखिल भारतीय खादी और ग्रामोद्योग बोर्ड का गठन 1953 में किया गया।

पाकिस्तान ने ‘कश्मीर समझौते’ के लिए 1966 में एक महत्त्वपूर्ण प्रस्ताव पेश किया।

सीरिया ने 1982 में हामा पर आक्रमण किया।

अमेरिकी राष्ट्रपति जार्ज बुश एवं रूस के राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन द्वारा 1992 में शीत युद्ध की समाप्ति की घोषणा।

चीन तथा सं।रा। अमेरिका के बीच 1997 में वस्त्र व्यापार विवाद को समाप्त करने हेतु समझौता।

महात्मा गांधी नरेगा अधिनियम 2 फरवरी, साल 2006 से 200 जिलों में अधिसूचित किया गया था।

अंतर्राष्ट्रीय पैनल (आईपीसीसी) ने 2007 में ग्लोबल वार्मिंग पर रिपोर्ट प्रस्तुत की।

2 फरवरी साल 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने 122 संस्थाओं को 2 जी स्पैक्ट्रम के आवंटन को अवैध घोषित किया था।

2 फरवरी साल 2013 में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एक एनआरआई वैज्ञानिक को पुरस्कृत किया , जिसने पीआरके और लेसिक लेजर अपवर्तक सर्जिकल तकनीकों  के लिए मार्ग  प्रशस्त किया था।

2 फ़रवरी को जन्मे व्यक्ति

भारत की एक प्रख्यात गांधीवादी, स्वतंत्रता सेनानी और एक सामाजिक कार्यकर्ता राजकुमारी अमृत कौर का जन्म 1889 में हुआ।

अमेरिकन एक्टर चार्ल्स कोरोल का जन्म 1890 में हुआ।

दक्षिण भारत में हिन्दी प्रचार आन्दोलन के संगठक मोटूरि सत्यनारायण का जन्‍म 1902 में हुआ

उपन्‍यसकार, दार्शनिक और पटकथाकार लेखक एयन रैंड का जन्‍म 1905 में हुआ।

देश के जाने-माने लेखक, कवि और स्‍तंभकार खुशवंत सिंह का जन्‍म 1915 में हुआ।

राजनेता दसरथ देब का जन्म 2 फरवरी , 1916 में हुआ।

महिला अभिनेत्री फराह फॉसेट का 2 फरवरी , 1947 को जन्म हुआ।

भारतीय अभिनेत्री शमिता शेट्टी का जन्‍म 1979 में हुआ।

2 फ़रवरी को हुए निधन

1907 में पिरोयॉडिक टेबल बनाने वाले रूस के दिग्‍ग्‍ज केमिस्‍ट दिमित्री मेंदेलीव का निधन हुआ था।

1958 में मद्रास के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी बलुसु संबमूर्ति का निधन हुआ था।

1960 में हिन्दी साहित्य के एक महान् उपन्यासकार चतुरसेन शास्त्री का निधन हुआ था।

1978 में मलयाली भाषा के एक प्रसिद्ध साहित्यकार गोविंद शंकर कुरुप का निधन हुआ था।

2007 में भारतीय फ़िल्म व टेलीविजन अभिनेता विजय अरोड़ा का निधन हुआ था।

1982 में प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ तथा राजस्थान के मुख्यमंत्री मोहन लाल सुखाड़िया का निधन हुआ था।

2 फरवरी , साल 2011 में भारत के सबसे प्रभावशाली रक्षा विश्लेषक कृष्णस्वामी सुब्रह्मण्यम का निधन।

अभिनेता फिलिप सीमोर हॉफमैन का 2 फरवरी साल 2014 में निधन।

पाकिस्तान के उपन्यासकार इंतजार हुसैन का 2 फरवरी साल 2016 को निधन।

2 फरवरी के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

वर्ल्ड वेटलैंड्स डे

वन अग्नि सुरक्षा दिवस (सप्ताह)

 

 

Save the Children India, Best NGO to Support Child Rights, Best NGO in Lucknow, Skills Development NGO, Health NGO Lucknow, Education NGO Lucknow, NGO for Women Empowerment, NGO in India, Non Governmental Organisations, Non Profit Organisations, Best NGO in India

 


All Comments

Leave a Comment

विशिष्ट वक्तव्य 

विशिष्ट महानुभावों के वशिष्ट अवसरों पर राय

Facebook
Follow us on Twitter
Recommend us on Google Plus
Visit To Website