EMAIL

info@unitefoundation.in

Call Now

+91-7-376-376-376

ब्लॉग

पैकेट का दूध ज्यादा न उबाले, हो जायेगा यह नुकसान
30-Apr-2018    |    Views : 000320

पैकेट का दूध ज्यादा न उबाले, हो जायेगा यह नुकसान

Lucknow.  रोजाना दूध पीने के बावजूद हड्डियां मजबूत नहीं हो रही हैं, वह जरा सी चोट लगने पर फ्रैक्चर हो जाती है। 30 से 40 साल की उम्र के लोगों में यह समस्या देखने को मिल रही हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि लोग पैकेट का दूध को खूब पकाकर पी रहे हैं। नतीजतन दूध के पौषक तत्व जल जाते हैं। जबकि पैकेट को दूध को ज्यादा नहीं उबाला जाना चाहिए। यह जानकारी हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉण् संदीप गर्ग ने दी। वह रविवार को एओ.ट्रॉमा इंडिया इंटरनेशनल कांफ्रेंस को संबोधित कर रहे थे।

यह भी पढ़ें- महिला उत्पीड़न को लेकर धरना प्रदर्शन

पैकेट का दूध विसंक्रमित होता है

डॉ. संदीप गर्ग ने कहा कि पैकेट का दूध कंपनी से विसंक्रमित होकर आता है। इसलिए उसे बहुत अधिक नहीं उबालना चाहिए। इससे विटमिन.डी खत्म हो जाता है। हड्डी की मजबूती के लिए विटमिन डी की अहम भूमिका है। पैकेट दूध को पीने के हिसाब से ही गर्म करें। रोजाना दो गिलास दूध पीना चाहिए। इसके अलावा सुबह की धूप भी हड्डियों के लिए जरूरी है। उन्होने बताया कि गाय.भैंस के दूध को उबालना चाहिए। क्योंकि दूध निकालने और उसे लाने ले जाने में कीटाणु आ सकते हैं। सबसे ज्यादा टीबी के बैक्टीरिया का खतरा रहता है। सुरक्षा के लिहाज से दूध को उबालना बेहतर है।

यह भी पढ़ें- ग्रामीणों को शिविर लगाकर दी गयी योजनाओं की जानकारी

कसरत फायदेमंद

डॉ. संदीप  ने कहा कि सुबह टहलना जरूरी है। कसरत भी करना चाहिए। मोटापे से बचना चाहिए। कसरत करने से मांसपेशियां मजबूत होती हैं। इससे खून की दौड़ान दुरुस्त रहता है। जो हड्डियों को मजबूत बनाती है। इसके अलावा प्रोटीनए पानी और सोयाबीन का सेवन भी भरपूर मात्रा में करना चाहिए। इसमें प्रोटीन होता है। जो हड्डियों के ढांचे को दुरुस्त रखती है। उसमें कैल्शियम ठीक से जमता है।

 

 

Save the Children India, Best NGO to Support Child Rights, Best NGO in Lucknow, Skills Development NGO, Health NGO Lucknow, Education NGO Lucknow, NGO for Women Empowerment, NGO in India, Non Governmental Organisations, Non Profit Organisations, Best NGO in India

 


All Comments

Leave a Comment

विशिष्ट वक्तव्य 

विशिष्ट महानुभावों के वशिष्ट अवसरों पर राय

Facebook
Follow us on Twitter
Recommend us on Google Plus
Visit To Website