EMAIL

Call Now

ब्लॉग

सात बार सर्वश्रेष्ठ गायक के लिए मिला राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार
10-Jan-2019    |    Views : 000206

LUCKNOW. डॉ. के.जे. येसुदास ए.के.ए कट्टास्सेरी जोसेफ येसुदास एक मलयाली भारतीय शास्त्रीय संगीतकार हैं और भारतीय फिल्मों के एक प्रसिद्ध प्लेबैक गायक हैं। उनका जन्म 10 जनवरी, 1940 को केरला के फोर्ट कोच्चि में हुआ था।

सात बार सर्वश्रेष्ठ गायक के लिए मिला राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार

LUCKNOW. डॉ. के.जे. येसुदास ए.के.ए कट्टास्सेरी जोसेफ येसुदास एक मलयाली भारतीय शास्त्रीय संगीतकार हैं और भारतीय फिल्मों के एक प्रसिद्ध प्लेबैक गायक हैं। उनका जन्म 10 जनवरी, 1940 को केरला के फोर्ट कोच्चि में हुआ था। उनके पिता अगस्टिन जोसेफ एक प्रसिद्ध मलयालम शास्त्रीय संगीतकार और उस युग के मंच पर अभिनय करने वाले अभिनेता थे। उनके पिता ही उनके पहले गुरु (शिक्षक) थे। गायन के लिए उनकी प्रतिभा तभी स्पष्ट हो गई थी जब वह त्रिपुनित्तरा में संगीत अकादमी में शामिल हो गए और सात साल की उम्र में फोर्ट कोची में आयोजित होने वाली स्थानीय प्रतियोगिता में संगीत के लिए स्वर्ण पदक जीता।

येसुदास को प्रख्यात संगीतकार चेम्बई वैद्यनाथ भागवतार ने प्रशिक्षण दिया, जिनके प्रशिक्षण ने येसुदास के चमकदार संगीत कैरियर के लिए नींव स्थापित की। हालांकि, कर्नाटक संगीत के विशेषज्ञ होने के साथ वह हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में भी कुशल हैं। उन्होंने सुंदर गीतों को प्रस्तुत करने के लिए दोनों कर्नाटक संगीत और हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत को मिलाया, उन्होंने अपने लंबे और शानदार कैरियर के दौरान रूसी, अरबी, लैटिन और अंग्रेजी गाने भी गाए। 1960 के दशक के मध्य में येसुदास ने प्लेबैक गायन शुरू किया। सबसे पहले उन्होंने कोलीवुड की फिल्मों में गायन शुरू किया, और कुछ समय बाद उन्होंने 1970 के दशक के मध्य के दौरान बॉलीवुड में प्लेबैक गायन भी शुरू किया। उन्होंने सात बार सर्वश्रेष्ठ गायक के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता।

येसुदास ने अपनी संगीत कला का पूरे विश्व में प्रदर्शन किया है, मध्य पूर्व में उन्होंने कर्नाटक शैली में अरबी गीतों को प्रस्तुत किया। वह असंख्य प्रदर्शनों के माध्यम से विदेशों में भारतीय संगीत को बढ़ावा देते रहे है। उनको भारत के राष्ट्रपति द्वारा 1973 में पद्म श्री और 2002 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

सोवियत संघ सरकार द्वारा डॉ. के.जे. येसुदास को पूर्व सोवियत संघ में संगीत समारोहों में प्रदर्शन करने के लिए आमंत्रित किया गया था। 1970 में उन्होंने केरल के संगीत नाटक अकादमी का नेतृत्व किया, जो अकादमी के इतिहास में पद धारण करने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति थे। 1970 में, येसुदास ने चेन्नई में थारंगीनी संगीत कंपनी की स्थापना की। यह स्टीरियो प्रभाव के साथ मलयालम फिल्म गाने दर्ज करने का एक अग्रणी प्रयास था। अभी तक स्टूडियो में डॉ. के.जे. येसुदास की उच्च गुणवत्ता वाली रिकॉर्डिंग का उत्पादन जारी है।

इसके अलावा 10 जनवरी को देश और दुनिया में बहुत कुछ हुआ। जिसके बारे में जानकर हम अपना ज्ञान बढ़ा सकते है।

10 जनवरी की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

1616 - ब्रिटिश राजदूत सर थॉमस रो ने अजमेर में जहांगीर से मुलाकात की।

1836 - प्रोफेसर मधुसूदन गुप्ता ने अपने चार छात्रों के साथ मिल कर पहली बाद मानव शरीर का विच्छेदन कर आंतरिक संरचना का अध्ययन किया।

1839- भारतीय चाय इंग्लैंड पहुँची।

1863 - लंदन में विश्व की पहली भूमिगत रेल की सेवा शुरू।

1910- पहली एयर मीट हुई।

1912 - ब्रिटिश नरेश जार्ज पंचम और रानी मैरी ने भारत छोड़ा।

1916 - प्रथम विश्व युद्ध के दौरान रूस ने ओटोमन साम्रज्य को हराया।

1920- राष्ट्रसंघ की स्थापना हुई।

वर्साय संधि के आधिकारिक तौर पर प्रभाव में आने से प्रथम विश्व युद्ध समाप्त हुआ।

1946 - लंदन में संयुक्त राष्ट्र महासभा की पहली बैठक में 51 राष्ट्रों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

1954 - ब्रिटेन का कॉमेट जेट भूमध्यसागर में दुर्घटनाग्रस्त, विमान में सवार सभी 35 लोग मारे गए। कॉमेट दुनिया का पहला जेट विमान था जिसे ब्रिटेन ने बनाया था।

1963 - भारत सरकार ने स्वर्ण नियंत्रण योजना की शुरुआत की।

1972 - पाकिस्तान की जेल में नौ महीने से अधिक समय तक कैद रहने के बाद बाद शेख मुजीबुर रहमान बंगलादेश पहुंचे।

1991 - संयुक्त राष्ट्र महासचिव जेवियर पेरेज़ द कुइयार खाड़ी युद्ध टालने की अपनी आखिरी कोशिश के तहत इराक की राजधानी बगदाद पहुंचे।

2001 - प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी इंडोनेशिया पहुँचे, मेडकाउ बीमारी के प्रति प्रशासनिक लापरवाही के कारण जर्मनी के दो मंत्रियों का इस्तीफ़ा, रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन सोवियत विघटन के बाद पहली बार अजरबैजान पहुँचे।

2002 - ब्रिटिश प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर पाकिस्तान पहुँचे, इस्रायल के विदेश मंत्री शिमोन पेरेज तीन दिवसीय यात्रा पर भारत पहुँचे, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद व नाटो में भारत की सदस्यता का पेरेज ने समर्थन किया, लाल सागर में पकड़े अवैध हथियारों के लिए संयुक्त राष्ट्र अमेरिका ने फ़िलिस्तीनी नेता यासर अराफात से जवाब मांगा।

2003 - उत्तर कोरिया परमाणु अप्रसार संधि से हटा।

2006- प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने 10 जनवरी को प्रति वर्ष विश्व हिन्दी दिवस के रूप मनाये जाने की घोषणा की थी।

2008- कार निर्माण की अग्रणी आटोमोबाइल कंपनी 'टाटा मोटर्स' ने एक लाख रुपये वाली कार 'नैनो' पेश किया। विदेष रेल परियोजनाओं के लिए भूमि अधिग्रहण के मामले में रेल क़ानून, 1989 में संधोधन करने वाले प्रस्ताव को मंजूरी दी।

इक्वाडोर का तुगंराहो ज्वालामुखी भयानक रूप से फटने के कगार पर पहुँचा।

2009- अशोक कजारिया ने पीएचडी चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्री का वरिष्ठ उपाध्यक्ष पद सम्भाला।

2010- भारतीय मूल के अमेरिकी फूड सिक्युरिटी एक्सपर्ट राजीव शाह ने अमेरिका के विदेश मंत्रालय के अधीनस्थ संस्था 'यूएस एजेंसी फॉर इंटरनैशनल डिवेलपमेंट' (यूएसएआईडी) के प्रमुख की ज़िम्मेदारी संभाल ली है। इसके साथ ही वह बराक ओबामा प्रशासन में सर्वोच्च पद संभालने वाले भारतीय बन गए।

2013 - पाकिस्तान में कई बम धमाकों में 100 लोगों की मौत, 270 लोग घायल।

10 जनवरी को जन्मे व्यक्ति

1894 - पी. लक्ष्मीकांतम- कवि एवं लेखक

1908 - पद्मनारायण राय - हिन्दी के निबन्धकार और साहित्यकार।

1940 - के. जे. येसुदास - भारतीय पार्श्व गायक और शास्त्रीय संगीतकार।

1949 - अल्लू अरविन्द, फ़िल्म निर्माता

1974 - ऋतिक रोशन, भारतीय अभिनेता

1886 - जॉन मथाई, भारत के शिक्षाविद, अर्थशास्त्री एवं न्यायविद्

1933 - गुरदयाल सिंह, ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित पंजाबी साहित्यकार

10 जनवरी को हुए निधन

1692 - जाब चार्नोक - कलकत्ता के संस्थापक

1996 - नाडिया - प्रसिद्ध भारतीय अभिनेत्री।

1969 -सम्पूर्णानंद- प्रसिद्ध राजनेता एवं लेखक

1994 - गिरिजाकुमार माथुर - प्रसिद्ध कवि एवं नाटककार।

1967 - राधाबिनोद पाल - टोक्यो, जापान युद्ध अपराध न्यायाधिकरण में भारतीय न्यायाधीश थे।

10 जनवरी के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

विश्व हिन्दी दिवस

एयर डिफ़ेंस आर्टिलरी दिवस।

अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म समारोह दिवस (10 दिवसीय)

 

 

Save the Children India, Best NGO to Support Child Rights, Best NGO in Lucknow, Skills Development NGO, Health NGO Lucknow, Education NGO Lucknow, NGO for Women Empowerment, NGO in India, Non Governmental Organisations, Non Profit Organisations, Best NGO in India

 


All Comments

Leave a Comment

विशिष्ट वक्तव्य 

विशिष्ट महानुभावों के वशिष्ट अवसरों पर राय

Facebook
Follow us on Twitter
Recommend us on Google Plus
Visit To Website