EMAIL

Call Now

0522-4957800

ब्लॉग

नमक में आयरन मिलाने से दूर होगी ये बीमारियां
10    |    Views : 000455

नमक में आयरन मिलाने से दूर होगी ये बीमारियां

LUCKNOW.  देश की आबादी का एक बड़ा हिस्सा एनीमिया की चपेट में है। जिसमें सबसे ज्यादा गर्भवती महिलायें प्रभावित रहती है। प्रसव के दौरान तमाम गर्भवती महिलाओं की सांसे थम रही हैं। वहीं दूसरी तरफ पुरुषों में आयोडीन की कमी से घेंघा समेत दूसरी बीमारी हो रही है। इस तरह की परेशानी को टालने के लिए आयोडीन युक्त नमक में आयरन की डोज को भी शामिल किया जिससे नमक की खुराक से घेंघा और एनीमिया से लड़ाई लड़ी जा सके। यह जानकारी दिल्ली एम्स के डॉ. उमेश कपिल ने दी।

वह शुक्रवार को सांइटिफिक कन्वेंशन सेंटर में इंडियन पब्लिक एसोसिएशन की तरफ से आयोजित 62 वीं वार्षिक कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। तीन दिन कार्यशाला चलेगी।

यह भी पढ़ेः- श्रमिकों के हक के लिए विज्ञान फाउंडेशन ने उठाई आवाज

आयरन की गोलियां खाने से है परहेज

 डॉ. उमेश कपिल ने कहा कि 50 से 60 प्रतिशत महिलाओं के शरीर में खून की कमी रहती है। इसका खामियाजा गर्भावस्था के दौरान भुगतना पड़ता है। सरकारी अस्पतालों में मुफ्त आयरन की गोलियां उपलब्ध कराई जा रही है। इसके बावजूद महिलाएं उसे खाने में परहेज करती हैं। उन्होंने कहा कि इस परेशानी से निपटने के लिए नमक में आयोडीन के साथ आयरन की खुराक भी मिलाई जाएगी। ताकि दोनों चीजे लोगों को पर्याप्त मात्रा में मिल सकें। इस प्रोजेक्ट को सफल बनाने के लिए टाटा से बात चल रही है। पहले चरण के तहत 20 राज्यों को चुना गया है। इन राज्यों के एनीमिया व आयोडीन प्रभावित जिलों का चयन किया जाएगा।

यह भी पढ़ेः- बालिकाओं के निःशुल्क शिक्षण के लिए प्रवेश शुरू

40 सामुदायिक केंद्रों में बनें बच्चों की यूनिट

नेशनल हेल्थ मिशन के महाप्रबंधक डॉ. एके वर्मा ने कहा कि शिशुओं की मृत्युदर में कमी लाने की दिशा में अहम कदम उठाए जा रहे हैं। इसके लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) में चार बेड की न्यू बार्न स्टेबलाइजेशन यूनिट स्थापित की जा रही है। उन्होंने कहा कि अभी प्रदेश की 160 सीएचसी में यूनिट स्थापित की जा चुकी है। 40 सीएचसी में यूनिट और स्थापित की जाएगी।

10 अस्पतालों में बनेगी एसएनसीयू

डॉ. एके वर्मा ने कहा कि सिक न्यू बार्न केयर यूनिट (एसएनसीयू) भी स्थापित की जा रही हे। अभी 76 अस्पतालों में एसएनसीयू का संचालन हो रहा है। 10 अस्पतालों में और यूनिट बनाई जा रही है। इसमें अमेठी, फतेहपुर, शामली जिलों को शामिल किया जा रहा है। ताकि शिशुओं की मृत्युदर में कमी लाई जा सके।

यह भी पढ़ेः- संक्रामक रोगों के लिये सरकार ने उठाया कदम...

जीवनशैली में सुधार लाएं

केजीएमयू कुलपति डॉ. एमएलबी भट्ट ने कहा कि संक्रामक बीमारियों का कहर बढ़ता जा रहा है। साफ-सफाई रखकर संक्रामक बीमारियों से बच सकते हैं। जीवनशैली में सुधार कर नॉन कम्युनिकेबल डीजीज से बच सकते हैं। रोजाना कसरत करनी चाहिए। फलों का सेवन फायदेमंद हैं।

 

 

Save the Children India, Best NGO to Support Child Rights, Best NGO in Lucknow, Skills Development NGO, Health NGO Lucknow, Education NGO Lucknow, NGO for Women Empowerment, NGO in India, Non Governmental Organisations, Non Profit Organisations, Best NGO in India

 


All Comments

Leave a Comment

विशिष्ट वक्तव्य 

विशिष्ट महानुभावों के वशिष्ट अवसरों पर राय

Facebook
Follow us on Twitter
Recommend us on Google Plus
Visit To Website