EMAIL

Call Now

ब्लॉग

प्रदीप के इस गीत ने किया उन्हे अमर, प्रधानमंत्री के आंख में आये आंसू
11-Dec-2018    |    Views : 0001054

प्रदीप के इस गीत ने किया उन्हे अमर, प्रधानमंत्री के आंख में आये आंसू

LUCKNOW. भारतीय कवि एवं गीतकार के रूप में मशहूर कवि प्रदीप का जन्म 6 फरवरी 1915 और 11 दिसंबर 1998 को हम सब को छोड़कर चले गये। उनके देशभक्ति गीत ऐ मेरे वतन के लोगों की रचना ने उन्हे अमर कर दिया। बतातें चलें कि 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान शहीद हुए सैनिकों की श्रद्धांजलि में ये गीत लिखा था। लता मंगेशकर द्वारा गाए इस गीत का तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की उपस्थिति में 26 जनवरी 1963 को दिल्ली के रामलीला मैदान में सीधा प्रसारण किया गया। गीत सुनकर जवाहरलाल नेहरू के आंख भर आए थे। कवि प्रदीप ने इस गीत का राजस्व युद्ध विधवा कोष में जमा करने की अपील की। मुंबई उच्च न्यायालय ने 25 अगस्त 2005 को संगीत कंपनी एचएमवी को इस कोष में अग्रिम रूप से भारतीय रुपया 10 लाख जमा करने का आदेश दिया।

कवि प्रदीप का मूल नाम 'रामचंद्र नारायणजी द्विवेदी' था। उनका जन्म मध्य प्रदेश प्रांत के उज्जैन में बदनगर नामक स्थान में हुआ। कवि प्रदीप की पहचान 1940 में रिलीज हुई फिल्म बंधन से बनी। हालांकि 1943 की स्वर्ण जयंती हिट फिल्म किस्मत के गीत "दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिंदुस्तान हमारा है" ने उन्हें देशभक्ति गीत के रचनाकारों में अमर कर दिया। गीत के अर्थ से क्रोधित तत्कालीन ब्रिटिश सरकार ने उनकी गिरफ्तारी के आदेश दिए। इससे बचने के लिए कवि प्रदीप को भूमिगत होना पड़ा।पांच दशक के अपने पेशे में कवि प्रदीप ने 71 फिल्मों के लिए 1700 गीत लिखे.[4] उनके देशभक्ति गीतों में, फिल्म बंधन (1940) में "चल चल रे नौजवान", फिल्म जागृति (1954) में "आओ बच्चों तुम्हें दिखाएं", "दे दी हमें आजादी बिना खडग ढाल" और फिल्म जय संतोषी मां (1975) में "यहां वहां जहां तहां मत पूछो कहां-कहां" है। इस गीत को उन्होंने फिल्म के लिए स्वयं गाया भी था। आपने हिंदी फ़िल्मों के लिये कई यादगार गीत लिखे। भारत सरकार ने उन्हें सन 1997-98 में दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया।

11 दिसंबर को इसके अलावा देश विदेश में ऐसी बहुत सी घटनायें घटी जिनको जानकर हम अपना सामान्य ज्ञान बढ़ा सकते है। 

11 दिसंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

1687 - ईस्ट इंडिया कंपनी ने मद्रास (भारत)में नगर निगम बनाया।

1845 - प्रथम आंग्ल-सिख युद्ध शुरू।

1858 - बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय और यदुनाथ बोस कलकत्ताविश्वविद्यालय से कला विषय के पहले स्नातक बने।

1937 - यूरोपीय देश इटली मित्र राष्ट्र संघ से बाहर आया।

1941 - जर्मनी और इटली ने अमेरिका के खिलाफ युद्ध की घोषणा की थी। पहले इटली के शासक बेनिटो मुसोलिनी और फिर जर्मनी के तानाशाह एडोल्फ हिटलर ने ये घोषणा की।

1946 - डॉ. राजेन्द्र प्रसाद भारत की संविधान सभा के अध्यक्ष निर्वाचित हुए।

यूरोपीय देश स्पेन को संयुक्त राष्ट्र से निलंबित किया गया।

1949 - खाशाबा जाधव - नागपुर की कुश्ती स्पर्धा में प्रतिस्पर्धी को मात्र पांच मिनट के भीतर ही चित कर दिया।

1960 - बाल विकास में लगी अंतरराष्ट्रीय संस्था यूनिसेफ़ के सम्मान में भी 15 नये पैसे का विशेष डाक टिकट जारी किया गया।

1964 - संयुक्त राष्ट्र के यूनिसेफ की स्थापना हुई।

1983 - जनरल एच.एम. इरशाद ने खुद को बांग्लादेश का राष्ट्रपति घोषित किया।

1994 - रूस के तत्कालीन राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन ने चेचेन विद्रोहियों पर हमला किया तथा उनके इलाके में सेना भेज दी।

1997 - ग्रीन हाउस देशों के उत्सर्जन में कटौती के लिए विश्व के सभी देश सहमत।

1998 - 23वें काहिरा अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म समारोह में तमिल फ़िल्म 'टेररिस्ट' सर्वश्रेष्ठ भूमिका के लिए आयशा धारकर को ज्यूरी का सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार प्रदान किया गया।

2002 - स्पेन के नौसैनिकों ने अरब सागर में उत्तर कोरिया के एक जहाज़ को पकड़ा, इसमें स्कड मिसाइलें लदी थीं।

2003 - मेरिदा में पहले भ्रष्टाचार निरोधक समझौते पर 73 देशों ने हस्ताक्षर किये।

2007 - उत्तर व दक्षिण कोरिया के मध्य 50 वर्ष बाद रेल सेवा पुन: प्रारम्भ।

11 दिसंबर को जन्मे व्यक्ति

1810 - अल्फ्रेड डोमोसे - फ्रांस के प्रसिद्ध लेखक और कवि का पेरिस।

1882 - सुब्रह्मण्य भारती, तमिल कवि

1922 - दिलीप कुमार, हिन्दी फ़िल्म अभिनेता।

1931 - ओशो रजनीश - धार्मिक आन्दोलनकर्ता

1935 - प्रणव मुखर्जी, भारत के विदेशमंत्री और वित्त मंत्री और 25 जुलाई, 2012 से राष्ट्रपति।

1969 - विश्वनाथन आनंद, भारत शतरंज खिलाड़ी

1969 - ज्योतिर्मयी सिकदर - भारत की प्रसिद्ध महिला धाविकाओं में से एक हैं।

11 दिसंबर को हुए निधन

1938 - जगत नारायण मुल्ला - अपने समय में उत्तर प्रदेश के प्रसिद्ध वकील और प्रसिद्ध सार्वजनिक कार्यकर्ता।

1949 - कृष्णचन्द्र भट्टाचार्य - प्रसिद्ध दार्शनिक, जिन्होंने हिन्दू दर्शन पर अध्ययन किया।

2004 - एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी, कर्नाटक संगीत की प्रसिद्ध गायिका एवं अभिनेत्री

1998 - कवि प्रदीप, प्रसिद्ध कवि और गीतकार

2012- रवि शंकर - भारत रत्न सम्मानित प्रसिद्ध सितार वादक

11 दिसंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

अखिल भारतीय हस्तशिल्प सप्ताह (08-14 दिसम्बर)

हवाई सुरक्षा दिवस (सप्ताह)

यूनीसेफ़ दिवस (विश्व बालकोष दिवस)

 

Save the Children India, Best NGO to Support Child Rights, Best NGO in Lucknow, Skills Development NGO, Health NGO Lucknow, Education NGO Lucknow, NGO for Women Empowerment, NGO in India, Non Governmental Organisations, Non Profit Organisations, Best NGO in India

 


All Comments

Leave a Comment

विशिष्ट वक्तव्य 

विशिष्ट महानुभावों के वशिष्ट अवसरों पर राय

Facebook
Follow us on Twitter
Recommend us on Google Plus
Visit To Website